शहीद विजय कुमार को दी श्रद्धाजंलि

first image

विजय कुमार परिवार और जीवन शहीद विजय कुमार हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के नैना देवी तहसील के पंचायत माकड़ी उट्टपर गांव के रहने वाले थे। शहीद विजय कुमार के परिवार में पत्नी और दो बेटे हैं। शहीद विजय कुमार की पत्नी मेनका और बेटे निशांत 9 वर्ष व सुशांत 5 वर्ष है जो कि अपने बच्चों के साथ नंगल में रहते हैं। विजय कुमार की नौकरी शहीद विजय कुमार पुत्र रणजीत सिंह 2004 में भारतीय सेना में शामिल हुए थे। 30 वर्षीय विजय कुमार सेना की 22 राष्ट्रीय राइफल में तैनात थे। शहीद विजय कुमार विजय अगले साल दिसंबर 2019 में सेवानिवृत्त होने वाले थे। विजय घर में छुट्टी बिताने के बाद 24 जुलाई को ही ड्यूटी पर लौटे गए थे। विजय कुमार की शहादत उतर कश्मीर के बारामुला जिले के सोपोर में शुक्रवार को सेना द्वारा आतंकवादियों के खिलाफ  चलाए गए ऑपरेशन में जवान विजय कुमार शहीद हो गए थे। शहीद जवान को शनिवार को भारतीय सेना की ओर से श्रद्धांजलि दी गई। जम्मू और कश्मीर के दर्सू गांव में दो आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना पर भारतीय सेना के सुरक्षाबलों ने उन्हें चारों ओर से घेर लिया था। इसके बाद दोनों के बीच एनकाउंटर में दो आतंकियों को मार गिराया गया था। दोनों को मार गिराने के बाद सेना के जवानों ने सर्च ऑपरेशन भी चलाया। आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए जवान विजय कुमार को गोली लग गई थी और इसके बाद उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां पर विजय कुमार शुक्रवार को हुए आतंकी हमले में शहीद हो गए और अपने परिवार को छोड़कर इस दुनिया से चले गए।  शहीद विजय कुमार का अंतिम संस्कार शहीद विजय कुमार को 3 अगस्त 2018 उनके पैतृक गांव में सैकड़ों लोगों ने और उनके 9 साल के बेटे ने शहीद पिता को नम आंखों से मुखाग्नि दी। हर उस इन्सान की आंख हुई नम हुवीं जब शहीद पिता को दी मुखाग्नि दी। क्या मंज़र रहा होगा जब ये देखा होगा हर उस इन्सान ने जो वहां शामिल था। शहीद विजय कुमार के बेटे ने भी कसम खायी है कि जब वो बड़े होंगे तो वो भी भारतीय सेना में शामिल होंगे और अपने पिता का बदला लेंगे आतंकवादियों से।  भारत माता की जय  !!!

0 Comments sort by oldest

Leave a Comment